Maha Shivratri History Information in Hindi Tamil Telugu

Maha Shivratri History Information in Hindi Tamil Telugu

Maha Shivratri History Information in Hindi Tamil Telugu : Maha Shivratri is a Hindu festival celebrated in all over the India. Maha Shivaratri is mostly celebrated in the month of February or March (In Phalguna Hindi Month).  As per Poornima-ant month calculation, the day is Krishna  Paksha Chaturdashi of Hindu calendar month Phalguna which falls in February or March as per the Gregorian calendar.

Maha Shivratri History Information in Hindi Tamil Telugu

Shivaratri is the day when Lord Shiva was married to the goddess Parvati. Somewhere in India, people celebrate this festival for 2-3 days. Well, below we are describing more about this festival in Hindi, Tamil, and Telugu languages. Scroll the page and know more about this holy festival

Maha Shivratri History Information in Hindi

‘महाशिवरात्रि’ के इस परम-पावन पर्व पर “अच्छीखबर-परिवार” के सभी सदस्यों को ढेर सारी शुभ कामनाएँ | मित्रों, कुछ विद्वानों का मत है कि आज ही के दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ विद्वान् ऐसा मानते हैं कि आज के ही दिन शिवजी ने ‘कालकूट’ नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय अमृत से पहले समुद्र से निकला था |स्मरणीय है कि यह समुद्रमंथन देवताओं और असुरों ने अमृत-प्राप्ति के लिए मिलकर किया था |एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी  हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्न होकर भगवान् शिव ने उस [शिकारी] पर अपनी असीम कृपा बरसाई थी | वही पौराणिक कथा, आज मैं संक्षेप में, आपसे शेयर कर रही हूँ जो “शिव पुराण” में संकलित है ….

प्राचीन काल में ,किसी जंगल में गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों के शिकार द्वारा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन ही   जब वह शिकार के लिए गया ,तब संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई जानवर शिकार के लिए न मिला, चिंतित हो कर कि आज उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा, वह सूर्यास्त होने पर भी एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर अपने साथ थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और इसके नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढक जाने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था |

रात का पहला प्रहर बीतने से पहले ही एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई |उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा |ऐसा करते हुए,उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे पेड़ के  नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी ,तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर,  शिकारी से , कांपते हुए बोली- ‘मुझे मत मारो |’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |हिरणी ने शपथ ली कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले |शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है | क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर ,उस हिरनी को जाने दिया |

थोड़ी ही देर गुज़री कि एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो , तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए ,उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी |इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है | उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया |

अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर वनेचर (शिकारी ) को बड़ा हर्ष हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया |उसने व्याध (शिकारी ) को देखा और पूछा –“क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा |” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा ये हृष्ट-पुष्ट शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा लेकिन एक बार मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं |” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह कुछ विनम्र वाणी में बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अब तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो  सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता | व्याध ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना |’

रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस वनेचर के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था |उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी | अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने कुटुंब का पालन करता रहा |’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा सब मृगों को यह कहकर कि ‘वे धन्य हैं’;  वापिस जाने दिया |उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया |मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी |

मित्रों, अंतत:, यही कहना चाहती हूँ कि जटाओं में गंगाजी को धारण करनेवाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे  नेत्रवाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ मेंडमरू और त्रिशूल है जिनके  और भक्तगण बड़ी  श्रद्दा सेजिन्हेंशिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, काशीविश्वनाथ, त्र्यम्बक, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकीपूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन कोसदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवंसबकी मनोकामनाएं पूरी करें |

Maha Shivratri History Information in Tamil

ராத்திரி என்ற பெயரோடு அழைக்கப்படும் விரதங்களில் சிவனை துதித்துவணங்கப்படும் விரதமே சிவராத்திரியாகும். சிவராத்திரி நித்ய சிவராத்திரி, பட்ச சிவராத்திரி, மகா சிவராத்திரி, யோக சிவராத்திரி என்றெல்லாம்வகைப்படுத்தப்பட்டுள்ளன. சிவராத்திரிகள் பல இருந்தாலும் மாசி மாதத்தில்கிருஷ்ண பட்சத்தில் வரும் புண்ணிய தினமே மகாசிவராத்திரி ஆகும்.

இந்துக்களின் முழுமுதற் கடவுளாகிய சிவபெருமானை எண்ணி முழு நாளும்வழிபடும் சிறப்பான விரதம் இந்த சிவராத்திரி ஆகும். அலை பாய்ந்துஅவதிப்படும் மனிதனது ஐம்புலன்களும் ஓரிடத்தில் ஒடுங்கி பரமாத்மாவாகிய பரம்பொருளிடம் ஒடுங்கும் இந்த `ராத்திரிமங்கலமான ஒளி சிந்தும்ராத்திரியாகும்.

நமது ஐம்புலன்களையும் அடக்கி இறைவனது சிந்தனையோடு இறையன்பில்மூழ்கியிருக்கும் போது இந்த உலகின் இடையூறுகள் நம்மை எதுவும் செய்வதில்லை.உலகினில் உள்ள எல்லா பொருட்களுமே மாயையிடம் ஒடுங்கும். அப்படி மகாசக்தியிடம் ஒடுங்கும் காலம் இருள் நிறைந்ததாக இருக்கும். இந்த காலம் மகாபிரளயம் என்று சொல்லப்படுகின்றது.

உலகம் எத்தனை காலம் இருக்கின்றதோ அத்தனை காலமும் பிரளயமும் உண்டு.இந்த காலத்தில் தான் உமாதேவி நான்கு காலமும் சிவனைப் பூஜித்தார். முழுமுதற் கடவுளான சிவபெருமான் மனம் இறங்கி உமா தேவியை நோக்கி உனக்கு என்ன வரம்வேண்டும் என்று கேட்டார். அதற்கு அம்மையார் நான் தங்களை மனமுவந்து பூஜித்தஇந்த நாள் சிவராத்திரி எனப் பெயர் பெற வேண்டும்.

இந்த தினத்தில் உங்களை முழு மனதோடும் பயபக்தியோடும் பூஜிப்பவர்கள்தங்கள் அருளினால் சகல பாக்கியங்களையும் பெற வேண்டும் என்று வேண்டிக்கொண்டார். இறைவனும் அவரது கோரிக்கையை ஏற்றுக் கொண்டார். அதனால் தான்சிவராத்திரி சிவ பூஜைக்கு சிறந்த நாளாகக் கொள்ளப்படுகின்றது.

சிவராத்திரி பற்றி பல கதைகள் மூலமாகவும் சிவ ராத்திரி மகிமைகூறப்படுகின்றது. சிவராத்திரியன்று நான்கு ஜாமங்களுக்கும் தனித் தனியானபூஜை முறைகள் சிவபுராணத்தில் கூறப்பட்டுள்ளன. அதைக் கடைப்பிடித்தால்அனைத்துப் பலன்களையும் பெற முடியும். முக்கியமாக அன்று நாம் சிலவிஷயங்களைக் கவனிக்க வேண்டும். முதலாவது அபிஷேகம். இது ஆன்மாவைத்தூய்மைப்படுத்துவதற்குறியது.

அடுத்தது லிங்கத்துக்குக் குங்குமம் அணிவித்தல். இதுநல்லியல்புகளையும் பலன்களையும் குறிக்கிறது. மூன்றாவது பல்வேறு வகையானஉணவுகளைச் சிவபெருமானுக்கு நைவேத்யமாகப் படைக்கப்படுகிறது. இதுவாழ்க்கையில் நீண்ட ஆயுளையும் நம்முடையவிருப்பங்களையெல்லாம்நிறைவேற்றுவதையும் குறிக்கும்.

நான்காவதாக செய்ய வேண்டியது தீபம் ஏற்றுதல், இல்வாழ்க்கைக்குத்தேவையான அத்தனை செல்வங்களையும் நமக்குக் கொடுக்கும். எண்ணெய்விளக்கேற்றுவதால் நமக்கு அவசியமாகத் தேவைப்படுகிற ஞானத்தை அடைய முடியும்.வெற்றிலை வழங்குவதால் உலக இன்பங்களையெல்லாம் அனுபவித்து முழுதிருப்தி அடையமுடியும்’. சிவராத்திரிக்கு முதல் நாள் ஒரே ஒரு நேரம் மட்டும் சாப்பிடவேண்டும்.

துவைத்தஆடை உடுத்த வேண்டும். தூய்மையான மனதுடன் சிவனை வணங்கவேண்டும். அன்று இரவு முழுவதும் சிவனை நினைச்சு மந்திரம் ஓதியோ, புராணங்களைப் படித்தோ உறங்க வேண்டும். மறு நாள் அதிகாலையில் நல்ல சுத்தமானநீரில் குளித்துச் சூரிய உதயத்துக்கு முன்னாடி சிவசிந்தனையோட கோவிலுக்குப்போய் வணங்க வேண்டும். பகல் முழுவதும் உணவு எதுவும் தேவையில்லை.

இரவிலும் மறுமுறை குளித்து, கோவிலில் நான்கு காலங்களிலும் நடைபெறும்பூஜைகளைக் கண்டு சிவனை வணங்கி இரவு முழுவதும் விழித்திருக்க வேண்டும்.அவசியம் நாலுகால பூஜையையும், பார்க்க வேண்டும். அப்படி இல்லாவிட்டாலும் கூடகடைசி 14 நாழிகையான லிங்கோத் பவ காலம் முழுவதுமாவது பஞ்சாட்சரம் சொல்லிவழிபட வேண்டியது அவசியம்.

தேன், பால், தயிர், நெய் ஆகியவற்றால் அபிஷேகம் செய்வது எண்ணற்றபலன்களைக் கொடுக்கக் கூடியது. அபிஷேகம் எதற்காகச் செய்யப்படுறது சிவபெருமான் ஆலகால விஷத்தை உட்கொண்டதால் அவரோட உடல் மிகவும் வெப்பமாக மாறிவிடுவதாக ஐதீகம். அந்த வெப்பத்தைத் தணிப்பதற்காகவே அவருக்குப் பல்வேறுவகையான பொருட்களைக் கொண்டு அபிஷேகம் செய்கிறோம்.

வெண்பொங்கல், வடை, அன்னம், தோசை போன்றவற்றை நிவேதனமாகப் படைக்கவேண்டும். சிவனுக்கு மிகவும் விருப்பமானது வில்வம், விலக்க வேண்டியதுதாழம்பூ. மகா சிவராத்திரி அன்று தான் நான்கு சாமங்களிலும் ருத்திராபிஷேகம்செய்து வில்வத்தால் சகஸ்ரநாம அர்ச்சனை செய்ய வேண்டும். அப்படி செய்யும்போது இவ்வுலக சுகமும் மறுமையில் கைலாசமும் கிடைக்கும் என்பது ஐதீகம்.

Maha Shivratri History Information in Telugu

Hope you guys enjoyed this article. You can use this Maha Shivratri information as short essay and speech. Share this Maha Shivratri special article with your friends, relatives, and family members. Don’t forget to share on different social networking websites and apps like WhatsApp, Facebook, Google+, Twitter, Hike, Wechat, Line, and BBM etc. Stay tuned with us for more upcoming Maha Shivratri articles.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow by Email
Facebook
Twitter
YouTube
Pinterest
Instagram